sgrr recruitment 2020

महिलाओं ने नए वस्त्र धारणकर मिट्टी से निर्मित शिव-पार्वती की विधिवत पूजा की। लकड़ी पर स्थापित शिव, पार्वती का ब्राह्मणों द्वारा पूजन किया गया। सर्वप्रथम भगवान गणेश की स्थापना कर चंदन, अरवा चावल, धूप-दीप, फल व फूल से पूजन किया गया। इसके बाद माता पार्वती पर श्रृंगार सामग्री कर पूजा अर्चना की गयी। रात्रि में भजन कर जागरण किया गया। वहीं महिलाओं ने तीज कथा का श्रवण किया। सुहागिनों ने अपने पति की दीर्घायु और अखंड सौभाग्य की कामना से के साथ यह व्रत करती है। व्रतियों के यहां लोगों का तांता लगा रहा। बगैर जल ग्रहण किए रखा व्रत संवाद सूत्र मारगोमुंडा : प्रखंड क्षेत्र में हरतालिका तीज मारगोमुंडा, बलिडीह, करंजो, नोनियाद, खमरबाद, भंडारो, डुमरिया, परसीया, गोराडीह, पंदनिया सहित अन्य गांवों में मनाया गया। इस दौरान क्षेत्र का वातावरण भक्तिमय हो उठा। व्रतियों ने बताया कि यह पूजा निर्जला उपवास होता है। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह कठिन व्रतों में से एक है। महिलाओं ने नए वस्त्र धारण कर मां पार्वती व भोलेनाथ की कथा भी सुनी।