रन मुखर के सेक्स वडय

विदेश में बसे भारतीयों के अलावा अन्य में भी हिंदी के प्रति गजब का उत्साह दिखता है। उनमें भारतीय साहित्य, संस्कृति व लोक परंपराओं को जानने की जिज्ञासा रहती है। यही कारण है कि भारतीय पुस्तकें वहां भी प्रचलित हैं। दिवाकर बताते हैं, इसमें सबसे बड़ी भूमिका फिल्मों ने निभाई। बालीवुड की फिल्मों के माध्यम से भारतीयता से जुड़ी तमाम जानकारियां विदेश में पहुंची। इससे हिंदी को बढ़ावा मिला है। कई देशों में तो हिंदी फिल्मों के डायलाग बोले और गीत गुनगुनाए जाते हैं।