police officer recruitment training

जागरण संवाददाता, कुल्लू : उत्तरी शीतोषण क्षेत्रीय केंद्र गड़सा में अनुसूचित जाति उप योजना के तहत भेड़ एवं खरगोश पालन पर किसानों को तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर हुआ। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली के तहत होने वाले इस प्रशिक्षण शिविर में 24 महिला व दो पुरुषों ने भाग लिया। अध्यक्ष डॉ. ओमहरी चतुर्वेदी ने बताया कि किसानों का तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में किसानों को वर्तमान ग्रामीण अर्थव्यवस्था में लघुरोमंथी, भेड़-बकरियों एवं खरगोश पालन के महत्व और उन्नत तकनीकों के बारे में जानकारी दी। वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. केएस राजा रविंद्र ने किसानों को खरगोश के प्रजनन एवं प्रजातियों के प्रबंधन के बारे में बताया। वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल रहीम ने किसानों को भेड़ प्रजनन एवं प्रजातियाँ प्रबंधन एवं किसानों को भेड़ सेक्टर एवं अंगोरा शशक एकांश का भ्रमण करवाया। प्रशिक्षण शिविर के समापन अवसर पर मुख्य अतिथि डॉ. एसएस सामान्त प्रभारी वैज्ञानिक, हिमाचल इकाई गोबिंद बल्लभ पंत राष्ट्रीय हिमालयी पर्यावरण एवं सतत विकास संस्थान कुल्लू ने सभी प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण पत्र बांटे। कार्यक्रम का समन्वयन डॉ. केएस राजा रवीन्द्र, वरिष्ठ वैज्ञानिक तथा सहायक प्रशासनिक अधिकारी दुर्गालाल वर्मा मौजूद रहे।