कैटरन कैफ ब्लू फल्म

जागरण संवाददाता, मऊ: कोरोना को लेकर सरकार सभी को सजग वह साफ सफाई रखने की सलाह दे रही है। प्रभावित देशों से आने वालों की हवाई अड्डे पर जांच की जा रही है। शक होने की स्थिति में संदिग्धों को आइसोलेशन वार्ड में रखा जा रहा है। लगातार 14 दिन तक निगरानी के बाद ऐसे लोगों को उनके घर जाने के लिए छोड़ दिया जा रहा है। यह एक प्रक्रिया है जिससे सभी को गुजरना पड़ रहा है। सुरक्षा के लिहाज से सभी लोग इसमें भागीदारी भी ले रहे हैं। लेकिन जिले के कई क्षेत्रों में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो बाहर से आने के बाद भी जांच कराने को तैयार नहीं है। उनके परिजनों से क्षेत्रवासी कहते हैं तो इसको लेकर कई लोग मारपीट पर आमादा हो जा रहे हैं। यह किसी भी सूरत में एक सभ्य और जिम्मेदार नागरिक की पहचान नहीं हो सकती। कोरोना जिस तेजी से अपने पांव पसार रहा है। उससे बचने का एकमात्र सरल एवं साधारण उपाय यही है कि जो भी लोग विदेश से या अन्य किसी भी जगह से आते हैं तो इसकी सूचना तत्काल स्वास्थ्य विभाग को दी जाए। आज देश जिस संकट से गुजर रहा है उस समय आपका या नैतिक कर्तव्य है कि अपनी सुरक्षा के साथ अपने परिवार समाज वह देश को भी सुरक्षित रखें। आप की सजगता किसी दूसरे की जान बचा सकती है। मात्र एक स्वास्थ्य परीक्षण से आप कोरोना की इस कड़ी को बेहद आसानी से मात दे सकते हैं। जांच नही कराने का लोगों का व्यवहार किसी को भी समझ नहीं आ रहा है। ग्रामीण कई लोगों को तो यह लग रहा है उनके घर के सदस्य को बेवजह परेशान किया जा रहा है। लेकिन यह जरा भी सच्चाई नहीं है। सरकार यह जो भी कार्य कर रही है वह सभी की भलाई के लिए ही कर रही है।