iph himachal pradesh recruitment 2016

संवाद सूत्र, फतेहपुर चौरासी : सहकारिता राजनीति की जननी है। सहकारिता के सहयोग से किसान वैज्ञानिक रूप से खेती कर दोहरा लाभ कमा सकते हैं। किसानों की आय बढ़ाने के लिए सहकारिता विभाग विशेष रूप से किसानों का सहयोग कर रहा है। यह बात बुधवार को नाबार्ड द्वारा आयोजित किसान जागरूकता गोष्ठी में जिला सहकारी बैंक के प्रबंधक राकेश वर्मा ने किसानों से कही। गोष्ठी का आयोजन साधन सहकारी समिति फतेहपुर चौरासी गढ़ी लिमिटेड के परिसर में किया गया था। गोष्ठी में प्रबंधक राकेश वर्मा ने कहा कि बैंक नें सहकारी समितियों के बकायेदारों की सुविधा को देखते हुए एकमुश्त समाधान योजना शुरू की है, जिसके तहत किसानों को फसली ऋण लेने वाले किसानों को आधा ब्याज माफ कर दिया जाएगा। इसका लाभ 1997 से 31 मार्च 2017 के मध्य वितरित किए गए फसली ऋण में किसानों को दिए जाएगा। मूलधन के बराबर ब्याज में आधे ब्याज की छूट दी जाएगी। साथ में किसानों से कहा कि बैंक द्वारा दिए गए ऋण पर नियमित खाते में 3 प्रतिशत ब्याज लगता है। उन्होंने कहा इसलिए किसानों को जिला सहकारी बैंक से ही ऋण लेना चाहिए। पूर्व सचिव रामदास ने कहा कि सहकारिता से किसानों को बहुत लाभ हैं जो यूरिया खाद 266 रुपये में सहकारिता में मिल जाती है वही खाद प्राइवेट विक्रेता 330 रुपये में दे कर किसानों का शोषण कर रहे हैं और वहीं दुकानदार सहकारिता का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि 3 फीसद ब्याज पर नियमित ऋण लेकर और बचत खाता में अन्य बैंकों से आधा प्रतिशत अधिक ब्याज लेने के लिए सभी किसानों को बचत खाता सरकारी बैंक में खुलवाना चाहिए। कार्यक्रम में दिनेश मिश्रा, शिवपाल सचिव ,राम आसरे, ठाकुर प्रसाद, भगवान दीन, विजय पाल शर्मा ,मथुरा, गोवर्धन,पवन कुमार आदि लोग मौजूद रहे।