इंडय सेक्स वडय डट कम

बता दें कि प्रधानमंत्री मातृत्व योजना के तहत कुछ फर्जी आवेदनों की शिकायत महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से मिल रही थी। इसमें कुछ लोग पुराने दस्तावेज पर ही आवेदन कर रहे थे। पहले आवेदक के मोबाइल पर ही वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) आता था। परंतु अब सीडीपीओ के मोबाइल पर ओटीपी आने के बाद ही आवेदन का सत्यापन हो सकेगा। विभाग के पास कुछ फर्जी कागजात आनलाइन आने के बाद इसकी जानकारी मिली है। ऐसा ही एक मामला यमुनानगर में आया था। जिसके बाद सरकार ने इसमें बदलाव किया है। इस योजना के तहत पहली बार गर्भवती हुई विवाहिता को तीन किश्तों में राशि दी जाती है, जो रिपोर्ट के आधार पर मिलती है। पहली दो बार में 1500-1500 की राशि और एक बार 2000 रुपये की राशि दी जाती है। वर्जन :