axis bank recruitment 2019 in tamilnadu

सुपौल। मरौना-निर्मली मुख्य सड़क में पचभिण्डा गांव प्राथमिक विद्यालय के समीप सड़क में पुल का निर्माण नहीं हो इस बात को लेकर मंगलवार को हजारों की संख्या में लोग पचभिण्डा गांव पहुंच कर एसडीओ अजय नारायण पांडे, मरौना थाना अध्क्षय सुनील कुमार, पीओ व पुल निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता के समक्ष इसका विरोध किया। विरोध कर रहे प्रखंड के पचभिण्डा, खोरमा, दानापुर, गणेशपुर, खुशियाली, बोदराही, सिराजपुर, मरौना उत्तर-दक्षिण के अलावा मधुबनी जिले के सैकड़ों लोगों का कहना था कि अगर पचभिणडा गांव के समीप सड़क को काट कर पुल का निर्माण करवाया जाएगा तो हजारों की आबादी को काफी क्षति होगी। लोगों ने कहा इस पुल को यहाँ बनने से दर्जनों गांव होते हुए नदी अपना रुख अपना लेगी और हजारों की आबादी नदी के चपेट में चली जाएगी। लोगों ने अधिकारी से किसी भी सूरत में इस जगह पर पुल नहीं बने इसको लेकर आग्रह भी किया। कहा इस पुल को पचभिण्डा एवं गिदराही गांव के सामने तिलयुगा नदी पर बना दिया जाय ताकि हररी पंचायत जो नदी लेकर दो भागों में विभक्त है वह जुड़ जायेगा। लोगों ने अधिकारियों से कहा कि यहां किसी सूरत में पुल नहीं बनेगा। इसको लेकर दर्जनों गांव के लोग 19 फरवरी को पचभिण्डा गांव में मरौना- निर्मली मुख्य सड़क पर धरना देंगे। ज्ञात हो कि इस पुल को लेकर कुछ दिन पूर्व भी हजारों की संख्या में लोगों ने विरोध किया था। लेकिन अभी तक इस पुल निर्माण की बात को प्रशासन व विभाग वापस नहीं ले रहा है। आखिर जब इस पुल को बनने से इतनी बड़ी आबादी को क्षति पहुंचेगी तो फिर पुल बनाना कहां उचित है। विरोध कर रहे लोगों में राज नारायण निराला, मुखिया कपिलेश्वर यादव, रामदया देवी, ग्रामीण सुनील यादव, देव नारायण यादव, कमल यादव, राजा यादव, प्रभाष कुमार, सूर्य नारायण यादव, वीरेंद्र शर्मा, शिवधर यादव प्रमुख हैं।