adt recruitment

इसके अलावा एनआईए ने बताया कि जांच के दौरान उन्हें एक फेसटाइम आईडी मिली. जिसका इस्तेमाल एंटीलिया कांड और मनसुख हत्या मामले में गिरफ्तार आरोपियों और संदिग्धों से सीक्रेट संपर्क स्थापित करने के लिए किया गया था. जब उन्होंने आईडी के बारे में पूछा तो पता चला कि इसका फर्स्ट नेम कुरकुरे और लास्ट नेम बालाजी था. वहीं एनआईए को एक और फेसटाइम आईडी की जानकारी का इंतजार है, जिसका इस्तेमाल इसी तरह के सीक्रेट कम्यूनिकेशन के लिए किया गया था. एनआईए के अलावा स्टेट सीआईडी और ठाणे पुलिस ने परमबीर के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया है. सिंह के खिलाफ अब तक 5 मामले दर्ज है, जिसमें से एक की जांच मुंबई, एक की थाने और तीन मामलों की जांच स्टेट सीआईडी कर रही है.