उत्तर प्रदेश में कुल कितने जिले हैं

डेंगू और वायरलजनित बीमारियों के कहर से स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं। जयारोग्य और कमलाराजा अस्पताल की तरह जिला अस्पताल मुरार में भी स्थिति चिंताजनक है। यहां बेड फुल होने से मरीज को वार्ड के फ्लोर पर भर्ती करना पड़ रहा है। यहां 12 बेड के पीडियाट्रिक वार्ड में 20 से ज्यादा बच्चे भर्ती हैं। जो बच्चे भर्ती हैं उनके परिजन को बैठने तक की जगह नहीं है। सिविल सर्जन डॉ. डीके शर्मा ने कहा, ICU का काम अंतिम चरण में है। पीडियाट्रिक ICU का काम भी चल रहा है। दोनों के लिए जरूरी उपकरण की डिमांड पूर्व में ही शासन को भेजी जा चुकी है। जल्द ही यह समस्या दूर हो जाएगी।