आंवल एलवेर गेहूं जवर स्वरस के फयदे

सहरसा। प्रखंड मुख्यालय स्थित पुराना उच्च विद्यालय सौरबाजार का भवन पन्द्रह वर्षो से जर्जर है। विद्यालय परिसर में नये भवन का निर्माण नहीं होने के कारण छात्रों को शिक्षण कार्य में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। जानकारी के अनुसार उक्त विद्यालय वर्ग नौ एवं दस के लगभग बारह सौ छात्र नामांकित हैं। जिसे बैठने के लिए मात्र पांच कमरे का भवन है। खंडहर में तब्दील भवन में सात कमरे थे। जिसमें छात्र शिक्षण कार्य करते थे। खंडहर भवन खपरैल का था। जिसकी मरम्मत समय पर नहीं होने की वजह से पूरी तरह बेकार हो गया। उक्त स्थल पर नया भवन निर्माण की दिशा में पहल नहीं हहोने से सबसे अधिक परेशानी विद्यार्थियों को होती है। विद्यालय प्रशासन द्वारा भवन निर्माण के बारे में कई बार विभाग को पत्र लिखा गया है। लेकिन इस दिशा में कोई पहल नहीं हो रही है।