territorial army recruitment 2016

संवाद सहयोगी, चिंतपूर्णी : श्रावण अष्टमी मेले की सप्तमी की रात को जोतों के स्वरूप के दर्शन करने के लिए बड़ी संख्या में भक्त पहुंचे। मां चितपूर्णी के दरबार में करीब 40 हजार श्रद्धालुओं हाजिरी लगाई। अब तक तीन लाख के करीब श्रद्धालु मां के दर पर अपनी उपस्थिति दर्ज करवा चुके हैं। बुधवार रात को आलौकिक जोतों के स्वरूप के दर्शन करने के लिए बड़ी संख्या में भक्त इस धार्मिक नगरी में उपस्थित हुए। कहा जाता है कि श्रावण अष्टमी की सप्तमी वाली रात को मां चितपूर्णी के दरबार में नौ जोतें परिक्रमा करती हैं। कई श्रद्धालु यकीन के साथ बताते हैं कि उन्होंने मां के मंदिर में जोतों को परिक्रमा करते हुए देखा है। ऐसे में बुधवार रात 12 बजे से सुबह चार बजे तक श्रद्धालुओं की भारी भीड़ एकत्रित हो गई। पूरी रात मेला क्षेत्र मां के जयकारों से गूंजता रहा। वहीं आधी रात को जब मंदिर के कपाट खुले तो श्रद्धालुओं की लंबी कतारें दर्शन के लिए लग गई। वीरवार शाम तक भी मां के दरबार में दर्शन की लाइनें ज्यों की त्यों बनी हुई थीं। मंदिर अधिकारी जीवन कुमार ने बताया कि मंदिर न्यास श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधाएं देने का प्रयास कर रहा है।