रशन कर्ड ऑनलइन कैसे करे

रविवार को मुख्य बाजार में कहीं तिल धरने तक की जगह नहीं थी। शनिवार शाम से ही इस धार्मिक नगरी में श्रद्धालु पहुंचना शुरू हो गए थे। जैसे ही मध्यरात्रि मंदिर के कपाट खोले गए, मां के दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ पड़ा। हालांकि मां के दर्शन करने के लिए श्रद्धालुओं को लंबा इंतजार भी करना पड़ा लेकिन आस्था व श्रद्धा से ओत-प्रोत श्रद्धालु मां के दर्शन के लिए कतारों में लगे रहे। श्रद्धालुओं की कतारें सुबह ही पुराने बस अड्डे के पार कर गई थीं और सुबह दस बजे के आसपास लाइनें लंबी खिच कर मोगा धर्मशाला के पास तक पहुंच गई जिससे मां के भक्तों को अपनी बारी के लिए तीन से चार घंटे तक का इंतजार करना पड़ा। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मंदिर न्यास ने मुख्य बाजार में धूप से बचने के लिए टेंट लगाए हुए थे और पेयजल के लिए भी अतिरिक्त कर्मचारी मंदिर परिसर क्षेत्र में तैनात किए गए थे। सुरक्षा कर्मचारियों की कमी के बावजूद न्यास ने बेहतर तरीके से भीड़ प्रबंधन किया।