मगज के लड्डू कैसे बनएं

अतिरिक्त मुख्य आयुक्त (मंदिर) एंव निदेशक (भाषा एंव संस्कृति) द्वारा मंदिर आयुक्त को इस बाईपास के लिए स्वीकृत राशि के बारे में सूचित कर दिया है। राशि का भुगतान मंदिर न्यास की निधि से किया जाएगा। इस मार्ग की मरम्मत व जीर्णोद्धार के बाद जहां मेले और आम दिनों में हजारों श्रद्धालुओं को फायदा मिलेगा, वहीं समनोली, गंगोट, नारी, स्वाणा, परचेली, बैह और टोंटा के वासियों को भी सीधा लाभ होगा। फिलहाल 3.1 किलोमीटर सड़क की हालत जर्जर है। कई जगहों पर गड्ढे पड़े हैं। मेले के दिनों में भीड़ प्रबंधन के लिए इस मार्ग का उपयोग न्यास द्वारा किया जा सकता है। इसी मार्ग पर भरवाई की पार्किंग से आगे वनवे मार्ग पर वाहन भेजे जा सकते हैं। इस मार्ग की मरम्मत का कार्य लोक निर्माण विभाग ने करना है, लेकिन इस बार न्यास चाहता है कि उक्त कार्य तय समयावधि के भीतर शुरू हो।