karnataka post circle recruitment

प्रदेश का सबसे धनी मंदिर न्यास चितपूर्णी बेशक करोड़ों रुपये का आर्थिक अनुदान जिले के विभिन्न स्थानों पर विकास कार्यो के लिए हर वर्ष मुहैया करवाता है। लेकिन विडम्बना यह है कि जिस धार्मिक नगरी में हर रोज हजारों श्रद्धालु आते हैं, वहां पर मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। इसे प्रशासनिक कोताही कह लें या चिराग तले अंधेरा की संज्ञा दे लें, पर मंदिर न्यास चिंतपूर्णी कस्बे के विकास को लेकर उदासीन नजर आ रहा है। माता मंदिर को जाने वाले वाले मुख्य रास्ते गेट नंबर-दो पर शाम ढलते ही अंधेरा छा जाता है। शाम के बाद भी भक्तों की इस मार्ग पर काफी भीड़ रहती है। अस्पताल रोड सहित समनोली और बैह-टोंटा गांवों को जाने वाला भी यही रास्ता है लेकिन मंदिर प्रशासन ने सिर्फ एक खंभे पर पुरानी ट्यूब लाइट लगा रखी है। इस चौक के दुकानदारों अमित कालिया, विकास ठाकुर, ऋषभ कालिया, राकेश और गणेश दत्त ने आरोप लगाया कि मंदिर न्यास दूरदराज के क्षेत्रों में तो हाईमास्ट लाइटें लगा रहा है लेकिन उस जगह पर ठीक ढंग की स्ट्रीट लाइट भी नहीं लगा पाया है, जिस क्षेत्र में श्रद्धालुओं की सबसे ज्यादा उपस्थिति रहती है। ऐसा ही हाल सीवरेज के कार्य के बाद बंद पड़ी हुई नालियों का भी है, जिसे लंबा अरसा बीत जाने के बाद अभी तक नहीं खोला गया है।