आलय भट्ट के एक्स एक्स वडय

मंदिर न्यास की तरफ से जो भी योजनाएं बनाई गई हैं, उन्हें क्रियान्वित भी किया गया है। प्रदेश में चितपूर्णी पहला ऐसा मंदिर था, जहां पर पर्ची सिस्टम को लागू किया। इतना ही नहीं हाइटेक सीसीटीवी कैमरों की व्यवस्था और स्वागत कक्ष व पार्किंग परिसर के निर्माण जैसे सकारात्मक कदम उठाए गए। चितपूर्णी मंदिर में लागू की गई व्यवस्था को बाद में कई मंदिरों ने अपनाया। प्रसाद योजना केन्द्र सरकार का प्रायोजित कार्यक्रम है, जिसमें चितपूर्णी मंदिर प्रदेश का एकमात्र धार्मिक स्थल है। इस योजना के तहत चितपूर्णी मंदिर परिसर पर पचास करोड़ रूपए खर्च होंगे। इस योजना की प्रक्रिया चली हुई है और न्यास ने जमीन अधिग्रहण की फाइल सरकार के पास भेज दी है।