पप्पू शर्म

पूछताछ में आरोपित ने बताया कि उसके जीजा संजीत यादव पुत्र सुखबीर यादव निवासी ग्राम औरंगाबाद थाना गुलावठी जिला बुलंदशहर उत्तर प्रदेश द्वारा वर्ष 2016 में जन बंधन निधि के अलावा अन्य कंपनिया खोली थीं, जिनमें से चार कंपनियों में वह डायरेक्टर है कंपनी द्वारा लोगों का पैसा देहरादून और अन्य शहरों में प्रॉपर्टी में लगाया गया था और कुछ पैसा फाइनेंस वालों को दिया गया था, लेकिन पैसा वापस न होने की स्थिति में कंपनी को नुकसान हो गया। संजीत यादव और उसकी पत्नी सीमा यादव जो कि कंपनी के मालिक थे फरार हो गए। विवेचना से यह जानकारी मिली है कि कंपनी की ब्राच में जो पैसा जमा होकर आता था, उसमें से कुछ पैसा ग्राहकों को वापस किया जाता था और बाकी पैसा संजीत यादव नकद अपने साथ ले जाता था। कंपनी आठ अगस्त 2016 को मिनिस्ट्री ऑफ कॉर्पोरेट अफेयर्स में पंजीकृत बताई गई है। इसके रजिस्ट्रेशन की भी जाच की जा रही है, वर्तमान में उक्त कंपनी के फर्जीवाड़े के संबंध में थाना डालनवाला एवं थाना प्रेमनगर में अभियोग पंजीकृत किए गए हैं।