ग्रहण 2019 भरत

अंबेडकरनगर: थाने के अलग-अलग गांवों में 24 घंटे में हुई सात नौजवानों की मौतों ने सभी को झकझोर दिया है। किसी का पिता चला गया तो किसी का पति या पुत्र। इन घरों में मातम है तो पूरा गांव सदमे में। बेबस ग्रामीण अपने-अपने घर गमगीन मुद्रा में बैठे हैं। रुकुनपुर गांव में दो सगे भाइयों रंजीत एवं सुदेश की मौत के बाद अब घर में कोई कमाने वाला नहीं है। दोनों नौजवान बहुएं विधवा हो गईं। एक बेटी का हाथ पीला कैसे होगा और दो छोटी बेटियों समेत कुल पांच परिवार का पेट कैसे भरेगा, यह प्रश्न खड़ा हो गया है।