अररय जल भरगम प्रखंड

सहायक शासकीय अधिवक्ता अतुल शुक्ला ने बताया कि दोस्तपुर के बेथरा गांव की नुसरत जहां की शादी गांव के ही मुनव्वर से वर्ष 2000 में हुई थी। दोनों से तीन बच्चे भी थे। अचानक 18 जनवरी 2008 को नुसरत की ससुराल में ही मौत हो गई। उसकी मां अजीजाबानो ने मुनव्वर व उसकी मां किताबुलनिशां पर एफआईआर दर्ज कराई। आरोप लगाया कि मुनव्वर का रिश्ता किसी दूसरी महिला से था, जिससे पति व सास प्रताड़ित करते हुए घर से निकल जाने व मर जाने की उलाहना देते थे। उसी से व्यथित होकर नुसरत ने जान दे दी। मुकदमा चलने के दौरान ही किताबुलनिशा कि मृत्यु हो गई। अभियोजन की ओर से छह गवाह पेश किए जिनके साक्ष्यों पर अभियुक्त को दोषी करार देकर जेल भेज दिया गया।